शनिवार, 4 सितंबर 2010

अपने घर के आंगन में

कुछ अपने ठहरा ले भइया अपने घर के आंगन में,
जैसे सांप छिपा ले भइया अपने घर के आंगन में।


रोज-रोज की पत्थरबाजी से अब तू घबराता है,
पाकिस्तान बसाले भइया अपने घर के आंगन में।


कंधा देने को मुर्दे को मिलते हैं अब लोग कहां,
खुद की चिता सजा ले भइया अपने घर के आंगन में।


खेल-खेल में नोट छापना कलमाड़ी से सीख जरा,
एक आयोजन करवा ले भइया अपने घर के आंगन में।


गुलेल से निकले एक कंकड ने आंख फोड दी बच्चे की,
और आम उगाले भइया अपने घर के आंगन में।


तूने मां-बाप को पीटा तेरा बेटा देख रहा,
इक कुटिया बनवाले भइया अपने घर के आंगन में।

7 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति के प्रति मेरे भावों का समन्वय
    कल (6/9/2010) के चर्चा मंच पर देखियेगा
    और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा।
    http://charchamanch.blogspot.com

    शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रिय बंधुवर तेजपाल जी

    अच्छा रंग जमा रहे हैं …
    खेल-खेल में नोट छापना कलमाड़ी से सीख जरा,
    आयोजन करवा ले भइया अपने घर के आंगन में


    पूरी रचना रोचक है । बधाई !

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्‍दर प्रेम से तीर मारा है भाई साहब आपने. गहरे तक वार करती कविता, तीव्र व्‍यंग्‍य. धन्‍यवाद भाई.

    उत्तर देंहटाएं
  4. अपने घर के आंगन में जो कार्य किये जाते हैं ,उनमे से कुछ का बहुत सुंदर प्रस्तुतीकरण |बहुत अच्चा व्यंग |बधाई
    आशा

    उत्तर देंहटाएं