मंगलवार, 6 मई 2014

अपने घर के आंगन में


कुुछ अपने ठहरा ले भइया, अपने घर के आंगन में।
जैसे सांप छिपा ले भइया अपने घर के आंगन में।।

रोज- रो ज की पत्थर बाजी से अब तू घबराता है।
पाकिस्तान बसा ले भइया अपने घर के आंगन में ।।

कंधा देने को मुर्दे को, मिलते हैं अब लोग कहां।
खुद की चिता सजा ले भइया, अपने घर के आंगन में।।

खेल-खेल में नोट छापना, कलमाड़ी से पूछ जरा।
एक आयोजन करवा ले भइया, अपने घर के आंगन में ।।

गुलेल से निकले इक कंकड़ ने आंख फोड़ दी बच्चे की।
और आम उगा ले भइया अपने घर के आंगन में।।

तूने मां- बाप को पीटा तेरा बेटा देख रहा।।
इक कुटिया बनवा ले भइया अपने घर के आंगन में ।।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें